Chief Municipal Officer

Mr. Jaydev Deepankar

Council

About Us Services Departments Citizen Charter Services to Public Achievements Solid Waste Management E-Governance Activities

Weather


19-12-2018
Temprature : 14.8oC

Introduction

नगर का भौतिक स्वरुपः

ऐतिहासिक महत्व -

नैनपुर मंडला जिले का एक तहसील मुख्यालय और यह मंडला से 50 कि.मी. दूर राज्य राजमार्ग नं 14 पर स्थित है । वर्तमान में नैनपुर टाउन तीन भागों अर्थात उमरिया , इटका और निवारी में विभाजित किया गया था । नैनपुर शहर उमरिया और इटका गांव को समाहित करता है यह कहा जाता है कि श्री नयन सुख पटेल रेलवे स्टेशन के निर्माण के लिए जमीन दी थी इसलिए शहर का नाम नैनपुर रुप में है । रेलवे टैक 1902-1912 वर्ष में रखी है । ब्रिटिश सरकार ने सशस्त्र बलों जुटाने के लिए मंडला में 1857 के बाद रेलवे से जोड़ने की जरुरत महसूस की । यह परिवर्तन सार्वजनिक परिवहन के लिए 1908 साल में सम्राट जार्ज वी द्वारा खोला गया था । रानी एलिजावेथ टेलर हनुमान मंदिर जो वार्ड नंबर 09 में विद्यमान है के निर्माण की अनुमति दी थी ।

जिला मंडला-

नैनपुर एक शहर और मध्य प्रदेश के भारतीय राज्य में मण्डला जिले में एक नगर पालिका है यह मंडला जिले के प्रशासनिक मुख्यालय है । शहर चकोर और तावर नदीयों के तट पर स्थित है ।भारत के मध्य में स्थित मध्य प्रदेश राज्य का मंडला एक जिला है । नैनपुर जिले के प्रशासनिक मुख्यालय है जो जबलपुर राजस्व संभाग का हिस्सा है । जिले का क्षेत्रफल 8771 वर्ग कि.मी. तथा जनसंख्या 7,79,414 है । जिसमें 9 विकास खंड, 4 तहसीलें तथा 1214 ग्राम है । जनसंख्या की दृष्टि से यह जिला आदिवासी बहुमूल्य जिला है जिसमें गौंड आदिवासी भी है ।

जिला मध्य प्रदेश के महाकौशल प्रदेश क्षेत्र में स्थित है तथा अधिकांश जिला क्षेत्र चकोर और तावर नदीयों के तट पर स्थित है । यह जिला भारत के 20 अधिक पिछडे़ जिलों में से एक है । जिले का अधिकांश क्षेत्र वन क्षेत्र से आच्छादित है । तथा ”कान्हा राष्ट्रीय उद्यान” जो शेरों के अभायारण्य का गृह क्षेत्र के रुप में जाना जाता है । इस अभयारण्य में देश के सबसे अधिक शेर है । इस राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त है । वर्ष के जुलाई से अगस्त के दो माह का छोड़कर शेष अवधि में पार्क जन-सामान्य के लिये खुला रहता है । जिला मण्डला प्लान्ट फोसाईल राष्ट्रीय उद्यान स्थित है ।

स्थिति:-

नैनपुर शहर 15 वार्डों के साथ 17.83 वर्ग कि.मी. के कुल क्षेत्रफल को शामिल करता है । शहर की कुल जनसंख्या 2001 की जनगणना 2001 की जनगणना के अनुसार 21769 है । शहर स्पष्ट रुप से दो भागों- रेलवे क्षेत्र और गैर रेलवे क्षेत्र में विभाजित है । शहर के प्रमुख विशेषता यह है कि शहर क्षेत्र भौतिक रुप से संकीर्ण गेज रेल लाइन के माध्यम से अच्छी तरह से आसपास क्षेत्र और कांदीया महाराष्ट्र मण्डला , सिवनी और जबलपुर प्रभागीय मुख्यालय के साथ जुड़ा हुआ है । नैनपुर 22.26o तथा 80.07o पर स्थित है । यह चाकोर और तानवर दो नदियों से घिरा हुआ है, यहाॅं एक झील , जो रेलवे तालाब के नाम से जाना जाता है ।

नागपुर से नैनपुर को जाने वाली छोटी लाइन एक सौंदर्य पूर्ण क्षेत्र और वास्तव में पर्यटकों को प्रसन्न करती है । यह लाइन नागपुर के उत्तर से छिंदवाडा को जाती है जहां नैनपुर तक पूर्व फिर यह जबलपुर तक उत्तर की ओर से जाता है । जहां पर्यटक मनोरम पहाड़ियों और दृश्यों का सौंदर्य देखते हैं।

भू-भौतिकीय एवं भूमि का आकार-

नैनपुर शहर एक सपाट स्थलाकृति है । शहर की ढाल पूर्व और दक्षिण पश्चिम दिशा की ओर मुख्य रुप है । यह 447 मीटर के एक औसत ऊंचाई पर है । हवाओं के दबाव पेटी में स्थानांतरण के कारण पवनों की दिशा मुख्य रुप से पश्चिम से पूर्व की ओर होती है। आम तौर पर हवा की गति मध्यम होती है।

मानसून महीने में हवाओं की गति काफी तीव्र होती है । जिसकी रफतार 40 से 50 किमी प्रति घंटा तक पहुंच जाती है।शहर महान भारतीय पठार है गर्म और के शीतोष्ण जलवायु को समाहित करता है। गर्मियों के दौरान नैनपुर का तापमान 44 डिग्री सेल्सियस के साथ गर्म है, लेकिन सर्दियों 15 डिग्री सेल्सियस के बीच तापमान काफी आरामदायक है। दक्षिण पश्चिमी मानसून की शुरुआत के साथ सितम्बर के महीने से जुलाई तक भारी वर्षा होती है । सर्दियों के दौरान अक्टूबर से मार्च तक शहर यात्रा के लिए उपयुक्त है ।

सतही जल निकाय और घरेलू अपशिष्ट खुले नालियों के माध्यम से बहते हुए चकोर नाले मे मिल जाता है, तो अंततः तानवर नदी मे विसर्जित करता है।

नगर पलिका परिषद् क्षेत्र एवं निवेश क्षेत्रः-

नैनपुर नगर परिषद् का कुल अधिकार क्षेत्र 17.83 वर्ग कि.मी. है नैनपुर नगर, नगर परिषद् की अध्यक्षता में है जो वार्ड पार्षदों द्वारा चुने गए है इसमें 15 वार्ड हैं और प्रत्येक वार्ड एक वार्ड परिषद द्वारा प्रतिनिधित्व किया जाता है । नगर परिषद् के अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत जनसंख्या विकास या घनत्व प्रभावित नही करते बल्कि यह अन्य कारकों पर निर्भर करता है।